HomeHealth Tips

ककड़ी (Cucumber) के आयुर्वेदिक और औषधीय गुण

ककड़ी (Cucumber) के आयुर्वेदिक और औषधीय गुण
Like Tweet Pin it Share Share Email

ककड़ी/Kakdi

ककड़ी को हमेशा कच्चा ही खाया जाता है और ये स्वादिष्ट भी होती ही इसमे कैल्शियम फास्फोरस, सोडियम तथा मैग्नीशियम पाया जाता है। जिस वजह से गर्मी भी कम लगती है और आप गर्मियों में होने वाली डिहाइड्रेशन की समस्या से बचे रहते हैं ककड़ी मूत्रकारक, स्वादिष्ट और पित्त को खत्म करने वाली होती है ककड़ी को उत्तर भारत में लोग सलाद के रूप में ज्यादा  खाते हैं इसकी भरवां ककड़ी की सब्जी भी बहुत स्वादिष्ट बनती हैं ककड़ी को भारत की उत्पति माना जाता है। यह न केवल स्वादिष्ट होती है बल्कि इससे कई प्रकार के मानव रोग भी दूर होते हैं।

ककड़ी खाने से होने वाले लाभ :-

  1. ककड़ी के बीजों के साथ, जीरा पीसकर, चीनी मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम सेवन करने से ल्यूकोरिया रोग में बहुत लाभ होता है।
  2. खून के विकार को दूर करने के लिए ककड़ी के फूलों को घी में भूनकर काली मिर्च का चूर्ण और सेंधा नमक मिलाकर शाक बनाकर खाएं।
  3. माना जाता है कि ककड़ी और प्याज का रस पिलाने से शराब का नशा दूर होता है।
  4. शरीर की गर्मी और तेज प्यास के निवारण के लिए ककड़ी के बीज की गिरी को मट्ठे के साथ पीसकर सेवन कीजिए।
  5. गर्मियों में अधिक प्यास लगती हो तो ककड़ी के दो सौ ग्राम रस में थोड़ी-सी चीनी मिलाकर पीने से प्यास शांत होती है।
  6. ककड़ी में पोटेशियम होता है जो उच्च रक्तचाप के रोगी को बहुत लाभ देता है। ककड़ी का दो सौ ग्राम रस रोजाना सेवन कर सकते हैं।
  7. मूत्रावरोध की समस्या होने पर ककड़ी के बीजों को पीसकर उसमें थोड़ा-सा जीरा और चीनी मिलाकर सेवन कीजिए। बहुत लाभ होगा।
  8. ककड़ी अपचन की विकृति को भी दूर करता है। अधिक भोजन कर लेने पर जब पेट में दर्द का अनुभव हो तो ककड़ी खाने से पाचन क्रिया जल्दी होने से दर्द से मुक्ति मिलती है। इससे बना रायता अपचन में बहुत आराम देता है।
  9. गर्मियों में अधिक धूप लगने से चेहरे की त्वचा मटमैली हो जाए तो ककड़ी के टुकड़े चेहरे पर रगड़ने से बहुत लाभ होता है।
  10. ककड़ी के डेढ़ सौ ग्राम रस में नींबू का रस और जीरा पीसकर मिलाकर पीने से पेशाब की तेज जलन की समस्या दूर होती है और पेशाब भी सरलता से बाहर आता है।
  11. तेज धूप या तेज रोशनी में अधिक देर काम करने से यदि आंखों में जलन और थकावट महसूस हो तो ककड़ी को पीसकर पलकों पर कुछ देर के लिए रखें बहुत लाभ होता है। ककड़ी के पतले टुकड़े पलकों पर रखे जा सकते हैं।
  12. ककड़ी के रस में गाजर का रस मिलाकर रोजाना सेवन करने से गुर्दो की समस्या दूर होती है।
  13. ककड़ी के रस को बालों की जड़ों में लगाकर,थोड़ा-थोड़ा मलकर कुछ देर रूककर बालों को पानी से धोने पर बाल तेजी से विकसित औत मुलायम होते हैं।
  14. चेहरे की त्वचा में निखार तथा मुंहासे से सुरक्षा के लिए ककड़ी को पीसकर चेहरे पर रोजाना मलिए।
  15. बाल अधिक तेजी से बढ़े और मजबूत हो तो नियमित रूप से ककड़ी, गाजर और पालक का रस मिलाकर पीजिए। बहुत लाभ होगा।
  16. पथरी की समस्या होने पर ककड़ी के बीजों को पीसकर पानी में मिलाकर सेवन करना चाहिए।
  17. आंखों में तेज जलन होने की स्थिति में ककड़ी के रस को छानकर बूंद-बूंद आंखों में डालिए।
  18. जब नाक या मुंह से खून निकलता हो तो ककड़ी का दो सौ ग्राम रस पीने और ककड़ी का प्रतिदिन सेवन करने से बहुत लाभ होता है। खून निकलने की समस्या दूर होती है।
  19. ककड़ी और गाजर का रस सौ-सौ ग्राम मिलाकर पीने से वात विकृति में बहुत लाभ होता है।
  20. नियमित रूप से ककड़ी खाने से दांतों और मसूढ़ों को मजबूती मिलती है। दंत रोगों की आंशका नष्ट होती है।
  21. ककड़ी खाने से सुगर के रोगी को बहुत लाभ होता है।
  22. ककड़ी में पर्याप्त मात्रा में पानी और फाइबर पाया जाता है, जबकि कैलोरी की मात्रा इसमें नहीं होती। ककड़ी के सेवन से वजन नियंत्रित रहता है (Source)
  23. ककड़ी का सेवन कीजिए। इसमें पर्याप्‍त मात्रा में पानी और फाइबर पाया जाता है, जबकि कैलोरी की मात्रा इसमें नहीं होती। इसके सेवन से वजन नियंत्रित रहेगा

हमारे शरीर में पानी की मात्रा ही हमारे शरीर से विषैले पदार्थो को बाहर निकालने का काम करती है इसलिए ये भी होता है कि ककड़ी (Cucumber) का सेवन आपके शरीर से अनचाहे पदार्थ भी बाहर करती है | ककड़ी में खनिजो (Minerals) की मात्रा भी भरपूर होती है आपके शरीर को दिन भर में जितने विटामिन (Minerals) चाहिए होते है ककड़ी लगभग सारे के सारे वो पूरा कर सकती है इसमें विटामिन ABC होते है जो आपके शरीर को कई तरह की चीजों के लिए तैयार करते है और साथ ही आपकी इम्यून प्रणाली को भी मजबूत करते है |

Read More :- तरबूज (Watermelon) के आयुर्वेदिक और औषधीय गुणखरबूजा (Cantaloupe) के आयुर्वेदिक और औषधीय गुण 

loading...
Loading...