HomeHealth Tips

आयुर्वेद में छुपा है पुरुषों की ताकत का खज़ाना

आयुर्वेद में छुपा है पुरुषों की ताकत का खज़ाना
Like Tweet Pin it Share Share Email

पुरुषों की ताकत को कायम रखने के लिए आयुर्वेद का जितना धन्यवाद किया जाये वो कम है ऐसे -ऐसे नुस्खे, औषधी आयुर्वेद में भरे हुए हैं जो यौवन व जवानी को बरकार रख सकती हैं, बस आवश्यकता है तो इनके सही इसतेमाल करने की और जो सेवन विधि बताई गयी है उसका अनुसरण करने की

आज हम आपको आयुर्वेद की ऐसी ही कुछ गुप्त औषधी के राज आपको बता रहे हैं जिनके सेवन से पुरुषों की ताकत हमेश कायम रहेगी और पुरूष कभी अपनी जवानी में कमी महसूस नहीं करेगा

पुरुषों की ताकत पाने का आयुर्वेदिक औषधी खज़ाना

कौंच के बीज (शुध किए हुए), खजूर, सिंघाड़ा, दाख और उड़द इन सब को 20-20 ग्राम की मात्रा में लेकर 250 मिली पानी में मिलाकर पकाएं। जब पानी समाप्त हो जाए तो इसमें खांड, वंशलोचन, शुद्ध घी एवं शहद मिलाकर सेवन करने से शुक्र शक्ती बढ्ती है

यौन शक्ति को बढ़ाने व खोई हुई पुरुषों की ताकत वापस लाने के लिए असरोल की जड़ का पावडर तथा कासनी हीरो व अरेबियन तेल लाभदायक सिद्ध होते हैं। इन औषधियों से किसी भी प्रकार के यौन संबंधी समस्याएँ होने पर इस्तेमाल करें लाभप्रद सिद्ध होगी। इस दवा को हिंदी में बबूल के रस के नाम से जाना जाता है।

मुलेठी के 1.5 ग्राम चूर्ण को शुद्ध घी और शहद के साथ सेवन करने से भी कामेच्छा (पुरुषों की ताकत) बढ़ती है।

गोखरू बीज, तालमखाना बीज, शतावरी, कौंच बीज, नागबला की जड़, अतिबला की जड़ इन सब को मोटा-मोटा कूटकर कर 2.5 ग्राम की मात्रा में दूध के साथ सुबह शाम लेने से पुरुषों की ताकत में बढ़ोत्तरी होती है

शतावरी, गोखरू, विरादीकंद, शुद्ध भल्लातक, गिलोय, चित्रक, त्रिकटु, तिल, विदारीकन्द और मिश्री मिलाकर बनाया गया चूर्ण, जिसे नरसिंह चूर्ण भी कहा जाता है, एक उत्तम वाजीकारक औषधि है इसे सर्दी मे खाकर तंदरुसती व पुरुषों की ताकत हासिल की जा सकती है। इसे आयुर्वेदाचार्य राजाओं के लिए बनाया करते थे

अकाकिया बबूल की फलियों तथा पत्तों का रस है जिसे सुखाकर टिकिया बनायी जाती है। यह दवा पेशाब में धातु तथा स्वप्न दोष के लिए अचूक औषधि है। जो व्यक्ति इस तरह के रोग से ग्रसित है उन्हें बबूल का रस 1 से 1 1/2 ग्रा. तक सेवन करना चाहिए। इसके अलावा अकाकिया अन्य बीमारियों में भी लाभकारी हैं जैसे- खूनी पेचिश, श्वेत प्रदर, आँख आना, मुँह में छाले होना आँतों में खराश गर्मी के कारण उत्पन्न होने वाली सूजन गाँठ इत्यादी मे भी फ़ायदेमंद है।

कच्चे लहसुन की 2-3 कलियो का प्रतिदिन सेवन करना यौन-शाक्ति बढ़ाने का बेहतरीन घरेलु उपचार है तथा इस योग से कोलेस्ट्रोल को भी नियंत्रण मे रखा जा सकता है यह उत्तम दवा है

15 ग्राम तुलसी के बीज और 30 ग्राम सफेद मुसली लेकर चूर्ण बनाएं, फिर उसमें 60 ग्राम मिश्री पीसकर मिला दें और शीशी में भरकर रख दें। 5 ग्राम की मात्रा में यह चूर्ण सुबह-शाम गाय के दूध के साथ सेवन करें इससे यौन दुर्बलता दूर होती है। व पुरुषों की ताकत की वापसी होती है

सालम पंजा व विदारीकन्द को ब्राबर मात्रा मे पीस कर 5 ग्राम चूर्ण में पिसी मिसरी व घी मिला लें। इस चूर्ण को खाने के बाद इसके ऊपर से मीठा ग्रम दूध पीने से वृद्ध पुरुष की भी संभोग करने की क्षमता वापस लौट आती है।

5 ग्राम गोखरू का चूर्ण और काले तिल 10 ग्राम को बराबर मात्रा में लेकर इसे 250 मिलीलीटर बकरी के दूध में उबालकर तथा उसे ठंडा करके शहद को मिलाकर खाना चाहिए। इसका सेवन करने से हैंडप्रैक्टिस (हस्तमैथुन) से यौन क्रिया में आई कमजोरी भी समाप्त हो जाती है।

200 ग्राम विधारा और 200 ग्राम  असगंध नागौरी व 200 ग्राम मिश्री- इन तीनों को लेकर कूट पीस लें। फिर इसे अच्छी तरह से कूट-पीसकर तथा इसे छानकर रख लें। सुबह के समय रोजाना इस चूर्ण को 2 चम्मच खा लें। उसके बाद ऊपर से मिश्री मिला हुआ गर्म-गर्म दूध को पी लें। इस चूर्ण का इस्तेमाल करने से बुजुर्ग व्यक्ति भी जवानों के समान संभोग कर सकता है।

जरुर पढ़े :- जायफल का चूर्ण कर देगा वो कमाल के आप रह जायेंगे हैरान

ध्यान देने योग्य  :- मगर नोट करे कि शहद ओर घी को भूल कर भी ब्राबर मात्रा मे इसतेमाल न करे

इन सभी दवाओ पर गुड,आचार,खटाई,मसालेदार वस्तुओ का तयाग करके लगातार 40 से 60 दिन तक जरुर इसतेमाल करे व लाभ उठाए

loading...
Loading...