HomePickle

लहसुन का अचार बनाने का आसान तरीका

लहसुन का अचार बनाने का आसान तरीका
Like Tweet Pin it Share Share Email

लहसुन का अचार (Garlic Marinade)

लहसुन का अचार खाने में तो स्वादिष्ट होता ही है साथ ही यह बहुत से बिमारियों से भी बचाए रखता है लहसुन का सेवन न सिर्फ सर्दियों बल्कि हर मौसम में बेहद फायदेमंद है। लहसुन का अचार के फायदे के बारे में आयुर्वेद के साथ-साथ अब एलोपैथिक विशेषज्ञ भी समझते हैं। यही वजह है कि चिकित्सक अक्सर डाइट में लहसुन के सेवन को फायदेमंद बताते हैं। लहसुन में कई छोटी-छोटी पुतियां होती हैं| इन पूतियों पर पतला खोल चढ़ा होता है| जब तक पूतियों पर यह खोल चढ़ा रहता है, तब तक यह खराब नहीं होतीं| लहसुन को अमृततुल्य बताया गया है क्योंकि इसमें काफी गुण होते हैं| यह शरीर में गरमी को बनाए रखता है, इसीलिए इसका प्रयोग शीतकाल में अधिक किया जाता है| यह चेहरे पर चमक बढ़ाता है| इसको खाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं| जो व्यक्ति नित्य इसका सेवन करते हैं, उनको शारीरिक व्याधियों से छुटकारा मिलता है| लहसुन उत्तेजक और चर्मदाहक होता है| यह अपना प्रभाव शरीर के सभी अंगों पर छोड़ता है| इसको खाने से शरीर में रक्त का शोधन होता है और चुस्ती-फुर्ती आती है|

लहसुन का अचार बनाने की सामग्री :- 

२५० ग्राम लहसुन.
१-२ बडे चम्मच नमक(स्वाद के अनुसार)
१ बडा चम्मच लाल मिर्च (पिसी हुई)
१-२ चम्मच हल्दी पिसी हुई
२ बडे चम्मच अमचूर पिसा हुआ.
१ बडा चम्मच चीनी
१-२ छोटा चम्मच कलॊंजी.
५० ग्राम तेल

लहसुन का अचार बनाने का सरल तरीका :-

अब सारी सामग्री को (तेल को नही ) यानि सारे मसाले आपस  मे अच्छी तरह से मिला ले,

उसके बाद  लह्सून को उबालते पानी मे ८,१० मिन्ट उबाल ले, ज्यादा नही.

फ़िर इस लहसुन के छीलके बहुत जल्द उतर जायेगे, फ़िर इसे उस बर्तन मे डाल ले जिस बर्तन मे आप ने आचार डालना हे,

उपर जो मसाला हमने मिलाया था वो सारा मसाला डाल दे, फ़िर तेल को थोडा सा गर्म कर के उस बर्तन मे डाल दे, एक बार अच्छी तरह से हिला दे,

ओर आप इसे २४ घण्टे के लिये रख दे कही भी, बस आप का आचार तैयार है ,ओर फ़िर इसे फ़्रिज मे रख दे २,३ सप्ताह से ज्यादा यह चले गा,
अगर ज्यादा मिठठा बनाना हे तो थोडी ज्यादा चीनी डाल दे,ओर उबालने के समय ध्यान रखे यह ज्यादा नही उबलना चाहिये,

अन्य विधि लहसुन का अचार (Garlic Pickles) बनाने की :- 

लहसुन का अचार (Garlic Pickles) एक बहुत ही आसान और जल्दी बनने वाला अचार है जिसे बहुत ही कम समय में आसानी से बनाया जा सकता है, इस अचार को बनाने के लिए आप बाजार से छिली हुई लहसुन की कली का भी इस्तेमाल कर सकते है। लहसुन का अचार सर्दियों के मौसम में बहुत फायदेमंद होता है क्योकि लहसुन की तासीर गर्म होती है तो आईये आज हम आपसे लहसुन का अचार (Garlic Pickles) बनाने की विधि शेयर करेंगें।

आवश्यक सामग्री (Ingredients For Garlic Pickles Recipe)-

लहसुन की कली (Garlic Cloves)- डेढ़ कप (छिली हुई)
लाल मिर्च पाउडर (Red Chilly Powder)- 1 चम्मच
हल्दी पाउडर (Turmeric Powder)- 1 चम्मच
मेथी दाना (Fenugreek seeds)- डेढ़ चम्मच (भूनकर पीस लें)
भुना जीरा पाउडर (Roasted Cumin Powder)- 1 चम्मच
हींग (Asafoetida)- चौथाई चम्मच
राई दाना (Mustard seeds)- 1 चम्मच
सफ़ेद सिरका (White vinegar)- 2 चम्मच
कलौंजी (Fennel seeds)- आधा चम्मच
सौंफ पाउडर (Aniseeds Powder)- आधा चम्मच
सरसों का तेल (Mustard Oil)- आधा कप (गरम करके ठंडा कर लें)
नमक (Salt)- स्वादानुसार

विधि (How To make Garlic Pickles)-
लहसुन का अचार बनाने के लिए सबसे पहले एक बड़े पैन में पानी भरकर उबलने के लिये रखें। जब पानी उबलने लगे तब एक चलनी में छिली हुई लहसुन की कलियों को डालकर करीब 5-6 मिनट के लिये भाप में पकने दें।  अब गैस बंद कर दें और भाप में पकी हुई लहसुन की कलियों को एक कॉटन के कपड़े पर फैलाकर  करीब 3-4 घंटे के लिए छोड़ दें जिससे लहसुन का एक्स्ट्रा पानी सूख जाये। लगभग 5 घंटे बाद सूखी हुई लहसुन की कलियों को एक बड़े बाउल में निकालकर इसमें हल्दी पाउडर, लाल मिर्च पाउडर, मेथी दाना पाउडर, सौंफ पाउडर, भुना जीरा पाउडर, राई दाना, कलौंजी, हींग, सिरका और नमक डालकर अच्छी तरह से मिक्स कर लें। अब लहसुन के अचार में गरम करके ठंडा किया हुआ सरसों का तेल मिला लें और लहसुन के अचार को एक काँच के कंटेनर में भरकर स्टोर कर लें। स्वादिष्ट लहसुन का अचार (Garlic Pickles) बनकर तैयार हो गया है। लहसुन के अचार को परांठे, पूरी , दाल चावल  और पुलाव के साथ सर्व करें। लहसुन के अचार को ज्यादा टाइम तक फ्रेश रखने के लिए अचार के कंटेनर को फ्रिज में स्टोर करें।

लहसुन के हानिकारक प्रभाव

  1. मुंह से लेने पर लहसुन ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित होता है। ल‍ेकिन लहसुन सांस में बदबू, मुंह, पेट या सीने में जलन, गैस, मतली, उल्टी, शरीर में गंध और दस्त का कारण बन सकता है। अक्सर कच्चा लहसुन स्थिति को और भी खराब कर देता हैं। लहसुन से रक्तस्राव का खतरा भी बढ़ सकता है। सर्जरी के बाद लहसुन का सेवन से अन्य एलर्जी प्रतिक्रियाओं और ब्‍लीडिंग की शिकायत हो सकती है।
  2. कुछ लोग त्वचा पर लहसुन का पेस्‍ट बना कर लगता है। लेकिन त्वचा पर लहसुन का इस्तेमाल  संभवतः असुरक्षित होता है। लहसुन के गाढ़े पेस्ट का त्वचा पर उपयोग त्वचा को जलने की तरह नुकसान पहुंचा सकता है।
  3. आमतौर पर भोजन में निश्चित मात्रा में लिया गया लहसुन गर्भावस्था में सुरक्षित होता है। लेकिन लहसुन संभवतः असुरक्षित होता है, अगर गर्भावस्था और स्तनपान में औषधीय मात्रा में प्रयोग किया जाता है। जब आप गर्भवती है या स्तनपान करा रही हैं, तो त्वचा पर लहसुन के उपयोग की सुरक्षा के बारे में पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी नहीं है। इसलिए सुरक्षित पक्ष में रहने के लिए इसके उपयोग से बचें।
  4. लहसुन, विशेष रूप से ताजा लहसुन के सेवन से ब्‍लीडिंग की समस्‍या बढ़ जाती है। इसलिए ब्लीडिंग डिसऑर्डर की समस्या से बचने के लिए लहसुन का सेवन करते समय इसकी मात्रा का ध्यान रखें।
  5. लहसुन गैस्ट्रोइंटेस्टिनल ट्रैक्ट में जलन पैदा कर सकता है। इसलिए अगर आपको पाचन संबंधी समस्या हो तो लहसुन का प्रयोग सावधानी से करें।
  6. बच्चों को मुंह से और उचित रूप से लहसुन की थोड़ी सी मात्रा सुरक्षित होती है। लेकिन अधिक मात्रा में मुंह से खिलाने पर यह संभवतः असुरक्षित होता है।  कुछ सूत्रों के अनुसार, लहसुन की उच्च खुराक बच्चों के लिए खतरनाक या घातक भी हो सकती है। हालांकि, इस चेतावनी के लिए कारण ज्ञात नहीं है।
  7. मुंह से लिया जाने वाला कच्चा लहसुन मुंह की जलन, पेट दर्द या परिपूर्णता, भूख कम लगना, गैस, डकार, मतली, उल्टी, पेट अस्तर की जलन, पेट या सीने में जलन, कब्ज़ , हार्टबर्न, डायरिया और आंतों में बैक्टीरिया के परिवर्तन का कारण हो सकता है। एक नए शोध के अनुसार, पूरे लहसुन की गांठ का सेवन करने से आंत्र बाधा उत्पन्‍न हो सकती है। इसलिए पेट के अल्‍सर और जलन वाले लोगों को इसका इस्तेमाल  सावधानी से करना चाहिए।

Article source :- http://www.mjaayka.com/, http://www.onlymyhealth.com/

loading...
Loading...