HomeEasy Healthy Recipes

शरीर को ताकतवर बनाना (Creating Powerful Body)

शरीर को ताकतवर बनाना (Creating Powerful Body)
Like Tweet Pin it Share Share Email

शरीर को ताकतवर बनाना

शरीर को ताकतवर बनाना है तो आपको अपने भोजन में केले को स्थान देना होगा । केला हर मौसम में सरलता से उपलब्ध होने वाला अत्यंत पौष्टिक एवं स्वादिष्ट फल है। केला रोचक, मधुर, शक्तिशाली, वीर्य व मांस बढ़ाने वाला, नेत्रदोष में हितकारी है। पके केले के नियमित सेवन से शरीर पुष्ट होता है। यह कफ, रक्तपित, वात और प्रदर के उपद्रवों को नष्ट करता है।

केले के पेड़ को यदि हम देखे तो केले का हर हिस्सा काम का होता है,चाहे पत्ता हो, तना हो, फल (कच्चा पका दोनों)हो, जड़ हो, फूल हो, सभी बड़े महत्वपूर्ण है. यहाँ तक कि जब केले पर कालिमा आ जाए तो हम उसे सडा जानकार फेक देते है, उस समय केला और पौष्टिक हो जाता है.केला कभी सड़ता नहीं है.

केले में मुख्यतः विटामिन-ए(Vitamin A), विटामिन-सी(Vitamin C), थायमिन(Thiamin), राइबो-फ्लेविन (Raibo- Flavin) , नियासिन  (Niacin) तथा अन्य खनिज तत्व होते है. इसमें जल का अंश 64.3 प्रतिशत ,प्रोटीन 1.3 प्रतिशत, कार्बोहाईड्रेट 24.7 प्रतिशत तथा चिकनाई 8.3 प्रतिशत है.

शरीर को ताकतवर बनाना

शरीर को ताकतवर बनाना है तो करें ये उपाय

शक्तिवर्धक :- एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच घी, पिसी हुई इलाइची व शहद मिला कर केले खाने के साथ पीने से शरीर सुन्दर और बलशाली होता है, बल, वीर्य, शुक्राणु ,काम-शक्ति और मष्तिस्क शक्त बढ़ती है . दही में केला और पीसी हुई मिश्री मिलकर खाने से भी मोटापा बढ़ता है.

बलवृद्धि के लिए व्यायाम तथा खेलकूद के बाद केले खाना चाहिए. केले में कार्बोहाईड्रेट पर्याप्त मात्र में होता है जो सरलता से पाच जाता है , छोटे बच्चे को आसानी से दिया जा सकता है. यह बच्चों के लिए उतम आहार है. इसे मसलकर दूध में मिलकर खिलने से अधिक फायदा होता है. यह खून में वृद्धि करके शरीर की ताकत बढाता है. नित्य केला का सेवन अगर दूध के साथ किया जाय तो कुछ ही दिनों में स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव देखा जा सकता है.

केले को पकाने के लिए इथियन एवं कैल्सियम कार्बाइड रसायन का पानी के घोल में डुबाया जाता है इससे केले पक जाते है. ये रसायन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है और इनसे केले के पौष्टिक तत्व भी नष्ट हो जाते है, इसलिए प्राकृतिक तरीके या वर्फ से पकाया ही खाना चाहिए. छितरी दार  केला रसायनों से पकाया जाता है. अतः इसे नहीं खाना चाहिए. बिना धुले केला या अन्य कोई भी फल हानिकारक हो सकता है.

कच्चे केले की सब्जी बहुत ताकतवर और पौष्टिक होती है मगर कच्चा केला आप ऐसे ही कभी न खाएं उसे सब्जी के रूप में ही खाएं.केले को अगर दूध में मिक्स करके खाया जाये तो यह पूरे भोजन की ताकत दे देता है. फिर आप दिन भर भोजन न भी करें तो कमजोरी महसूस नहीं होगी. केला छोटे बच्चों के लिए उत्तम व पौष्टिक आहार है। इसे मसलकर या दूध में फेंटकर खिलाने से लाभ मिलता है।

केले में उपस्थित तत्व – इसमें पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नेशियम, मैगनीज, कापर, आयरन, फास्पोरस,सल्फर, आयोडीन, अलुमिनियम, जिंक, कोबाल्ट, सिट्रिक एसिड, मैलिक एसिड ,आक्जेलिक एसिड तथा केले के फूल में डोपामाइन, कैफिक एसिड, गेलिक एसिड, प्रोतोकेतेच्विक एसिड, कम्पेस्तेराल, फेरुलिक एसिड, स्तीग्मास्तीराल, डोपानोराद्रेनालिन , सेलेनाल ग्लायकोसाइड्स ,सिनामिक एसिड आदि तत्व पाए जाते हैं.

Elements present in Bananas – the potassium , calcium, magnesium , manganese , copper , iron , Faspors , sulfur , iodine , Aluminium, zinc , cobalt , citric acid , malic acid , acid and banana flower Akgelik dopamine , Kafik acid , gaelic acid , Protoketecvik acid , Kmpesteral , ferulic acid , Stigmastiral , Dopanoradrenalin , Selenal Glaikosaids , cinnamic acid , and elements are found .

शारीरिक कमजोरी में – जिनकी पाचन शक्ति कमजोर हो, तो केले को सुखाकर पीसकर केले का आटा बनाकर, केले के आटे की रोटी खानी से कमजोर पाचन शक्ति ठीक हो जाती है. केला सुखाकर पीसकर उसका पावडर बना कर रख लीजिये. इस पावडर को छोटे बच्चों को ५ ग्राम की मात्र में रोज खिला दीजिये.६ महीने तक खिलाने से कमजोर बच्चा पहलवान जैसा मजबूत हो जाएगा. चहरे पर चमक भी आ जाएगी.

कोलेस्ट्रॉल – केले में मैग्नीशियम की काफी मात्रा होती है जिससे शरीर की धमनियों में खून पतला रहने के कारण खून का बहाव सही रहता है। इसके अलावा पूर्ण मात्रा में मैग्नीशियम लेने से कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है।

संग्रहणी – किसी को संग्रहणी की शिकायत हो तो वह पके केले के साथ इमली और नमक खाए , यह मिश्रण संग्रहणी दूर कर देता है.हैजे से ग्रसित रोगी को सुबह शाम एक एक पका केला जरूर खिला देना चाहिए

सांस से सम्बंधित बीमारी में – सांस से सम्बंधित कोई बीमारी हो तो एक केला लीजिये ,उसमे बीच में चीरा लगाकर काली मिर्च का ३-४ ग्राम पावडर भर के रात भर रख दीजिये, सवेरे इस केले को तवे पर ज़रा सा देशी घी डाल कर सेंक लीजिये.फिर खा लीजिये. ३ दिन लगातार यही काम करे. सांस की बीमारी ख़त्म.

ब्लड शुगर – केले के फूलों का सत मिल जाए तो इसे ब्लड शुगर को कंट्रोल  करने के लिए रोजाना एक चुटकी खा लीजिये. बहुत अचूक दवा है.

शरीर को ताकतवर बनाना है तो आपको ऊपरी शरीर के साथ साथ अंदरूनी ताक़त की भी जरुरत होती है क्योंकि यदि आप ऊपर से मजबूत है लेकिन अंदर से खोखले तो भी उस शरीर को ताकतवर बनाने का कोई फायदा नहीं शरीर को ताकतवर बनाना है तो आपको निम्न उपाय करने होंगे ताकि आप अंदर से भी स्ट्रोंग बन सकें.

वीर्यवृद्धि हेतु : तुलसी के बीजों का चूर्ण 2 ग्राम की मात्रा में पुराने गुड़ के साथ मिलाकार खाएं और इसके बाद 1 कप दूध पीएं। इसका सेवन नियमित रूप से सुबह-शाम नियमित रूप से कुछ महीनों तक लेने से सेक्स सम्बंधी धातु की वृद्धि होती है। इससे नपुंसकता (नामर्दी) और शीघ्रपतन (धातु का शीघ्र निकल जाना) की समस्याएं दूर हो जाती है।

धातुदुर्बलता : वीर्य की कमजोरी होने पर तुलसी के बीज का चूर्ण 60 ग्राम और मिश्री 75 ग्राम को एक साथ पीसकर चूर्ण बना लें और यह चूर्ण प्रतिदिन 3 ग्राम की मात्रा में गाय के दूध के साथ सेवन करें। इससे धातु की कमजोरी दूर होती है।

स्वप्नदोष : तुलसी की जड़ का काढ़ा 4-5 चम्मच की मात्रा में रात को सोने से पहले नियमित रूप से कुछ सप्ताह तक पीने से स्वप्नदोष से छुटकारा मिलता है।

शीघ्रपतन : तुलसी की जड़ या बीज चौथाई चम्मच की मात्रा में पानी में रात को भिगोकर रख दें और सुबह उसका सेवन करें। इससे शीघ्रपतन दूर होकर वीर्य पुष्ट (गाढ़ा) होता है।

शरीर को ताकतवर बनाना :

  1. तुलसी के बीज या पत्ते को भूनकर चूर्ण बना लें और इस चूर्ण के बराबर मात्रा में गुड़ मिलाकर लगभग 1-1 ग्राम की गोलियां बना लें। यह 1-1 गोली गाय के दूध के साथ सुबह-शाम लेने से शरीर में भरपूर ताकत आती है।
  2. लगभग आधा ग्राम तुलसी के पीसे हुए बीजों को सादे या कत्था लगे पान के साथ प्रतिदिन सुबह-शाम खाली पेट खाने से बल, वीर्य, खून बढ़ता है।
  3. लगभग 10 ग्राम तुलसी के बीजों के चूर्ण को 20 ग्राम पुराने गुड़ में मिलाकर प्रतिदिन खाने से शारीरिक शक्ति बढ़ती है। इसका प्रयोग 40 दिनों तक करना चाहिए। इसका सेवन केवल सर्दी के दिनों में ही करना चाहिए क्योकि यह गर्म होता है।
  4. शौच आदि से आने के बाद सुबह के समय तुलसी के 5 पत्ते पानी के साथ खाने से बल, तेज व स्मरणशक्ति बढ़ती है।
  5. तुलसी के पत्तों का रस 8 बूंद पानी में मिलाकर प्रतिदिन पीने से मांसपेशियां और हडि्डयां मजबूत होती है।
  6. तुलसी के बीज दूध में उबालकर चीनी मिलाकर पीने से शारीरिक शक्ति बढ़ती है।

नपुंसकता :

  1. धातु दुर्बलता में तुलसी के बीज एक ग्राम दूध के साथ सुबह-शाम सेवन करने नपुंसकता दूर होती है और कामशक्ति बढ़ती है।
  2. तुलसी की जड़ और जमीकंद को पान में रखकर खाने से शीध्रपतन की शिकायते दूर होती है।
  3. तुलसी के बीज या तुलसी की जड़ के चूर्ण में पुराना गुड़ समान मात्रा में मिलाकर 3-3 ग्राम की गोली बना लें। यह 1-1 गोली सुबह-शाम गाय के ताजे दूध के साथ 1 से 6 सप्ताह तक लेने से नपुंसकता दूर होती है।

शरीर को ताकतवर बनाना है उसके उपाय आप जान गए होंगे । लेकिन यहाँ एक बात ध्यान रखनी है की कही शरीर को ताकतवर बनाना है सोच कर आप एकदम से सभी चीज़ें खानी शुरु कर दें । ये जो भी बात बताई गयी है उसे आपको यथाशक्ति धीरे धीरे व्यायाम के साथ साथ खाने की खुराक को भी बढ़ाना है। कही ऐसा ना हो की शरीर को ताकतवर बनाना है के स्थान पर शरीर और भी कमजोर हो जाये या कोई और बीमारी आपको घेर ले । खाने के साथ आराम भी उतना ही जरुरी है जितना शरीर को ताकतवर बनाना

Article Source :- http://ourhomeremedy.blogspot.in/http://nihsarg.com/

loading...
Loading...