HomeHealth Tips

अगर आपका (प्रसव) सीजेरियन आॅपरेशन से हुआ है, तो मालिश करवानी चाहिये या नहीं ?

अगर आपका (प्रसव) सीजेरियन आॅपरेशन से हुआ है, तो मालिश करवानी चाहिये या नहीं ?
Like Tweet Pin it Share Share Email

 अगर सीजेरियन आॅपरेशन हुआ है, तो मुझे क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

सीजेरियन आॅपरेशन एक बड़ी सर्जरी होती है और हो सकता है इसके बाद आप काफी दर्द में हों। आपको इससे उबरने के लिए समय चाहिए होगा। अगर, आपका सीजेरियन हुआ है, तो मालिश शुरु करवाने से पहले घाव को भर जाने दें। इसमें करीब एक या दो सप्ताह का समय लगेगा। मगर आपका शरीर मालिश के लिए तैयार है या नहीं, इस बारे में पहले अपनी डॉक्टर से सलाह अवश्य ले लें।

मालिश से आपको आराम मिलेगा, मगर मालिशवाली को अपने घाव और पेट पर मालिश न करने के निर्देश पहले ही दे दें। प्रसव के बाद इतनी जल्दी उस क्षेत्र पर दबाव डालने से समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। पैरों, सिर और पीठ की मालिश तक ही सीमित रहना सुरक्षित रहता है।

प्रसव के बाद पांच से छह सप्ताह के आसपास, विशिष्ट स्कार टिशू मालिश घाव की अंदरुनी परतों को भरने में सहायक हो सकती है। कुछ विशेषज्ञ मानते हैं कि घाव की मालिश आपके ऊत्तकों को आपस में चिपकने से बचा सकती है। आॅपरेशन के बाद ऊत्तकों का आपस में चिपकना काफी आम है।

स्कार टिशू मालिश में घाव के आसपास के क्षेत्र में विशेष मालिश की जाती है। ऐसी मालिशवाली का चयन करें, जो कि इस तरह की मालिश करने के बारे में जानती हों।

कुछ जानकारों का मानना है कि प्रसवोपरांत 14 सप्ताह के अंदर ही स्कार टिशू मालिश शुरु करने का सही समय होता है। मगर, इस बारे में पहले अपनी डॉक्टर की अनुमति अवश्य लें।

मैं प्रसवोत्तर मालिश के लिए समय कैसे निकालूं?

शिशु के जन्म के बाद आप प्रधानमंत्री से भी ज्यादा व्यस्त हो जाएंगी! आपकी जिंदगी अब शिशु की नैपी बदलने, देर रात में उठकर दूध पिलाने, शिशु को नहलाने और उसकी मालिश करने, गंदे कपड़े धोने और ऐसे बहुत से कामों में बंध जाएगी। इन सब चीजों की व्यस्तता आपके लिए काफी तनावपूर्ण हो सकती है। इसलिए अपने लिए कुछ समय निकालना बहुत जरुरी है, चाहे यह कितना भी मुश्किल प्रतीत हो।

मदद के लिए कहें :- जब आपको मालिश करवानी हो, तो अपने पति, माँ, सास या परिवार के किसी अन्य विश्वसनीय सदस्य से शिशु की देखभाल के लिए मदद लें। या फिर मालिश तब करवाएं, जब शिशु सो रहा हो। आप भी शायद यह देखकर आश्चर्य करेंगी कि कितने सारे लोग आपकी मदद को तैयार हैं। शिशु की देखभाल की जिम्मेदारी किसी विश्वस्नीय व्यक्ति को सौंपकर आप भी​ चिंतामुक्त हो सकेंगी। निश्चित है कि मालिश करवाते समय आप किसी भी बारे में चिंता तो नहीं करना चाहेंगी।

सही समय चुनें :- शिशु को दूध पिलाने और उसकी नैपी और कपड़े बदलने के तुरंत बाद ही मालिश करवाना शुरु करें। अगर, शिशु की सारी जरुरतें पूरी हो गई हों, तो शायद फिर वह एक या दो घंटे तक आपसे कुछ नहीं चाहेगा। इस तरह आपके लिए शिशु को कुछ समय के लिए परिवार के किसी सदस्य या किसी विश्वसनीय आया के पास छोड़ना आसान रहेगा।

अपनी मालिश घर पर ही कराएं :- प्रसवोत्तर मालिश में निपुण बहुत सी मालिशवालियां सामान्यत: घर पर आकर ही मालिश करती हैं। इस तरह आप शिशु के पास रहकर ही घर पर आराम से मालिश के फायदे उठा सकती हैं। आप अपने मौहल्ले या कॉलोनी या फिर नजदीकी ब्यूटी पार्लर से आपके क्षेत्र की अच्छी मालिशवाली के बारे में पता कर सकती हैं। हमारे कम्युनिटी फोरम में अन्य माँएं भी आपको कुछ संपर्क या सुझाव दे सकती हैं। आप पूरे 40 दिन के पैकेज के लिए या फिर प्रतिदिन के हिसाब से कीमत के बारे मोल-भाव कर सकती हैं। साथ ही किसी भी मालिशवाली का चयन करने से पहले उसके बारे में दूसरे लोगों से पता कर लें ।

पहले से ही कार्यक्रम तय कर लें :- अगर आपको मालिश करवाने के लिए बाहर जाना हो, तो आप मालिश का समय सप्ताहांत में रख सकती हैं। शनिवार या रविवार की छुट्टी के दौरान आपके पति शिशु की देखभाल कर सकते हैं या फिर आप दोपहर को मालिश करवा सकती हैं, जब शिशु सो रहा हो। इस तरह आप वह समय चुन सकती हैं, जो आपके लिए सुविधाजनक हो और आपको शिशु की चिंता भी न हो।

मुझे प्रसवोत्तर मालिश कब नहीं करवानी चाहिए?

मालिश करवाना नुकसानदेह हो सकता है, यदि:

  • आपको त्वचा की समस्याएं जैसे कि चकत्ते, छाले, फोड़े या छाजन (एग्जिमा) है
  • आपके साथ कोई चिकित्सकीय जटिलता है
  • आपका रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) उच्च रहता है, ऐसे में हल्की मालिश ज्यादा उपयुक्त रहेगी
  • आपको हर्निया है

हमेशा बेहतर यही है कि मालिश शुरु करवाने से पहले अपनी डॉक्टर से पता कर लें कि यह आपके लिए सही है या नहीं।

http://www.babycenter.in

Loading...