HomeHealth Tips

lahsun ka upyog in Hindi (Garlic Benifits)

lahsun ka upyog in Hindi (Garlic Benifits)
Like Tweet Pin it Share Share Email

lahsun ka Upyog

lahsun ka upyog :- लहसुन (Garlic) में एलियम (Allium) नामक एंटीबायोटिक (Antibiotic) होता है जो बहुत से रोगों के बचाव में लाभप्रद है। लहसुन में एलिसिन (Allicin) नामक पदार्थ पाया जाता है ये उन कीटाणुओं को मारता है जो पेनीसिलीन (penisilina) से भी नष्ट नहीं होते। लहसुन में कैंसर (Cancer) से लड़ने की क्षमता  होती है। खाने-पीने तथा प्रदूषण से शरीर में बनने वाले नाइट्रोसेमाइन (Nitrosamines) के असर के कम करता है क्योंकि यह एंटीऑक्सिडेंट (Antioxidant) होता है लहसुन में कार्बोहाइड्रेट्स (Carbohydrates) , प्रोटीन (Protin) होता है। इसके अतिरिक्त इसमें वसा(Fat), खनिज लवण (Minerls Salt), फास्फोरस(Phosphorus) , आयरन(Iron) , विटामिन ए,बी(Vitamin A,B,C) तथा सी होतेहैं। पके हुए भोजन में मिश्रित लहसुन की अपेक्षा कच्चा लहसुन अधिक फायदेमंद होता है। इसकी दो कच्ची कलियों को बेहतर तरीके से चबा चबाकर खाया जाए, तो फायदा होता है।

lahsun ka upyog in Hindi

  1. अब तो डायबिटीज (Diabetes) के उपचार के लिए भी इसके गुण सामने आए हैं। रक्त (Blood) में यह शर्करा के स्तर को नियमित करने में मददगार होता है। फेफड़ों में क्षय रोग (TB in the Lungs) होने पर लहसुन के रस को रूई पर छिड़क कर रूई को नासाद्वारों पर बांध दें। लहसुन की गंध तथा गुणों को लेकर जो सांस फेफड़ों में जाएगी इससे क्षय दूर होगा।
  2. लहसुन दमा के इलाज में कारगर साबित होता है। 30 मिली दूध में लहसुन की पांच कलियां उबालें और इस मिश्रण का हर रोज सेवन करें। इससे दमा की शुरुआती अवस्था में काफी फायदा मिलता है। अदरक की गरम चाय में लहसुन की दो पिसी कलियां मिलाकर पीने से भी अस्थमा नियंत्रित रहता है।
  3. लहसुन की दो कलियां भून लें उसमें सफेद जीरा व सौंफ सैंधा नमक मिलाकर चूर्ण बना लें। इसका सेवन सुबह खाली पेट गर्म पानी से करें। लहसुन की चटनी खाना चाहिए और लहसुन को कुचलकर पानी का घोल बनाकर पीना चाहिए।
  4. कुक्कर खांसी के इलाज के लिए विशेषकर लगभग 25 बूंदें लहसुन का रस अनार के शर्बत में मिलाकर पिएं। इससे शीघ्र लाभ होता है। गला बैठा हो या स्वर में खरखराहट हो तो गर्म पानी में लहसुन का रस घोलकर प्रतिदिन लगभग पांच मिनट गरारा करें।
  5. पक्षाघात के रोगी को आप लहसुन की चटनी को मख्खन के समभाग के साथ भी दे सकते हैं(लहसुन मख्खन बराबर मात्रा) में। यह सुरक्षित योग है इसे प्रातः सांय दोनों समय प्रयोग कर सकते है
  6. 100 ग्राम सरसों के तेल में दो ग्राम (आधा चम्मच) अजवाइन के दाने और आठ-दस लहसुन की कुली डालकर धीमी-धीमी आंच पर पकाएं। जब लहसुन और अजवाइन काली हो जाए तब तेल उतारकर ठंडा कर छान लें और बोतल में भर दें। इस तेल को गुनगुना कर इसकी मालिश करने से हर प्रकार का बदन का दर्द दूर हो जाता है।
  7. लहसुन की दो कलियों को पीसकर उसमें और एक छोटा चम्मच हल्दी पाउडर मिला कर क्रीम बना ले इसे सिर्फ मुहांसों पर लगाएं। मुहांसे साफ हो जाएंगे।
  8. लहसुन की दो कलियां पीसकर एक गिलास दूध में उबाल लें और ठंडा करके सुबह शाम कुछ दिन पीएं दिल से संबंधित बीमारियों में आराम मिलता है।
  9. नियमित लहसुन खाने से ब्लडप्रेशर नियमित रहता है। एसीडिटी और गैस्टिक ट्रबल में भी इसका प्रयोग फायदेमंद होता है। दिल की बीमारियों के साथ यह तनाव को भी नियंत्रित करती है।
  10. लहसुन की 5 कलियों को थोड़ा पानी डालकर पीस लें और उसमें 10 ग्राम शहद मिलाकर सुबह-शाम सेवन करें। इस उपाय को करने से सफेद बाल काले हो जाएंगे।
  11. लहसुन के नियमित सेवन से पेट और भोजन की नली का कैंसर और स्तन कैंसर की सम्भावना कम हो जाती है।
  12. रोजाना इसे खाने से आपका कॉलेस्ट्रॉल लेवल 12 प्रतिशत तक कम हो सकता है। यह ब्लड क्लॉटिंग को रोकता है, खून पतला करता है और रक्त प्रवाह सुचारू करता है।

विशेष :– अगर आपको लहसुन की गंध पसंद नहीं है कारण मुंह से बदबू आती है। मगर लहसुन खाना भी जरूरी है तो रोजमर्रा के लिये  आप लहसुन को छीलकर या पीसकर दही में मिलाकर खाये तो आपके मुंह से बदबू नहीं आयेगी।

सावधानी :- लहसुन गैस्ट्रोइंटेस्टिनल ट्रैक्ट में जलन पैदा कर सकता है। इसलिए अगर आपको पाचन संबंधी समस्‍या हो तो लहसुन का प्रयोग सावधानी से करे|

lahsun ka upyog आपने पढ़े और आप भी बहुत से lahsun ka upyog जानते होंगे आप यदि बताना चाहे तो कमेंट बॉक्स में वो भी लिख सकते हैं और इसको शेयर करना ना भूलें क्या पता कब यह उपाय किस के काम आ जाएँ .  बहुत से लोग पूछते हैं जब लहसुन के इतने फायदे हैं तो इसमें से इतनी बदबू क्यों आती है तो में आपको बताना चाहूँगा की लहसुन देव दानव की लड़ाई में जब अमृत को राहू केतु ने पी लिए और भगवान विष्णु ने उनका गला काटा तो दानव के मुह से कुछ बून धरती पर गिरी जिस से लहसुन पैदा हुआ क्योंकि वो राक्षस के मुह से होकर गिरा इसलिये अमृत सामान गुण होने का बाद भी उसमे बदबू है

loading...
Loading...